मेरे  पिछले ब्लॉग में, अगर आपको याद हो कि हमने सातारा के पास लिम्ब ग्राम के बारामोतीची  विहिर का दौरा किया था, एक बार जब हम इस प्राचीन विहिर (बावड़ी ) की खोज के साथ संपन्न हुई , तो हमने अपने अगले गंतव्य श्री भैरवनाथ मंदिर की ओर बढ़ने का फैसला किया। 


अब आप सोच रहे होंगे कि  कहाँ यह बंदा एक पुरानी बावड़ी  देख़ने  आया और अब कहाँ  यह मंदिर देखने निकल पड़ा , तो भैया बात ऐसी थी कि कुछ साल पहले एक ट्र्रेक के दौरान मेरे एक मित्र जो चन्दन वंदन  सतारा में ट्रेक कर के आया था तो उसने मुझे इस शांत और खूबसूरत मंदिर के बारे में बताया था , बस तो क्या था, मैंने अपनी नोटबुक निकाली और उसमें  इस मंदिर की एंट्री दर्ज कर दी। सोचा जब भी सातारा भ्रमण पर निकलूंगा तब  यह मंदिर ज़रूर देख कर आऊंगा। अब जो हम कमिट कर लेते है तो हम आपने आप की भी नहीं सुनते 

श्री भैरवनाथ मंदिर जाने के रास्ते में (PC: नेहा मेहता)

मेरे लिए दिक्कत यह थी कि  मुझे इस मंदिर की ठीक से लोकेशन भी  पता नहीं थी बस इतना  ही पता था कि  चन्दन वंदन के बेस के आसपास कहीं है।  मैंने  गूगल मैप निकाला और बोला  आपने आप से  “बेटा हो जा शुरू “ और कुछ ही समय में लोकेशन का पता चल गया। 

 

हमारी यात्रा :


बारामोतीची विहिर से बाहर आने के बाद हम फिर से सतारा शहर की ओर जाने वाले राजमार्ग पर गए। हम स्थानीय लोगों से पूछते रहे कि किकाली गाँव कहाँ है लेकिन हमें कोई संतोषजनक उत्तर नहीं मिल रहा है, यात्री टिप: गाँव से होते हुए भैरवनाथ मंदिर तक जाने के लिए एक रास्ता है, आपको राजमार्ग पर वापस आने की आवश्यकता नहीं है।  सतारा शहर से कुछ ही किलोमीटर पहले एक लेफ्ट टर्न था, जिसे हमें  गूगल मैप ने  सुझाया था, उस मोड़ पर हमने फिर से स्थानीय लोगों से पूछा, लेकिन फिर से कोई जवाब नहीं मिला, सूरज बहुत गर्म हो रहा था और हमे  काफी प्यास भी महसूस हो  रही थी , सौभाग्य से हमने गन्ने का रस बेचने वाला देखा, और गन्ने का रस पीना हमारे लिए कुछ अनिवार्य नियम सा  है,  हम जब  भी महराष्ट्र की यात्रा करते  हैं। 

बैल चालित उपकरणों की मदद से ताजा गन्ने का रस निकाला जाता है।

 

 

हमने तुरंत अपनी कार रोकी और लपकर कर  कुर्सी पर जाकर बैठ गए, गर्मी में वह मीठा मीठा गन्ने का जूस कोई अमृत से कम न लग रहा था।  वहीं  हमने गन्ने के जूस वाले भैया से किकली गांव का रास्ता  पूछा, तो उसने हमें  बहुत ही अच्छे तरीके से  समझा भी दिया और साथ में बैठे एक व्यक्ति को हमारे साथ आगे तक जाने का आदेश दिया। 

 

श्री भैरवनाथ मंदिर के बाहर सड़क के किनारे सुंदर पेड़ लगे थे

 

गाँव में थोड़ा आगे बढ़ने पर हमने देखा कि एक सुंदर सड़क पेड़ों की श्रृंखला से सजी हुई है और उसके बाईं ओर 15-20 पत्थर की सीढ़ियाँ हैं जो श्री भैरवनाथ मंदिर के द्वार की ओर जा रही हैं। हम इन सीढ़ियों पर चढ़े और मंदिर परिसर में प्रवेश किया।

 

मंदिर परिसर में प्रवेश करने के लिए 15-20 पत्थर की सीढ़ियाँ

 

 

जिस क्षण मैंने अपना पैर परिसर में  रखा  मेरी  सारी  थकान  इस  मंदिर को देखते ही लुप्त हो गई।   यह मंदिर इतना शांत और सुंदर लग रहा । पूरे परिसर में  एक भी इंसान नहीं था , हां एक  भी इंसान नहीं था ,मानो जैसे  हमारे अकेले के लिए ही सारा मंदिर था।

 

 

एक सुंदर और शांत मंदिर – PC:नेहा मेहता


अगर हमें यात्रा कार्यक्रम  में समय की पाबंदी न होती तो मैं यहाँ कुछ  घंटों ध्यान करना पसंद करता परंतु  भटकती आत्मा को आराम कहाँ , वह तो कभी इस डाल पर, तो कभी उस डाल पर

 

 

 

 

इस मंदिर के बारे में बात करते हुए, नेट पर ज्यादा कुछ नहीं पाया जा सकता था, लेकिन मंदिर में लगाए गए पट्टिका के अनुसार हमें यह पता चलता है कि यह मंदिर यादवों के काल में 12-14 शताब्दी ईस्वी के आसपास बनाया गया था। आगे मुझे बताया गया कि यह मंदिर महाराष्ट्र के 14 भैरवनाथ मंदिरों में से एक है (मुझे लगता है कि मैं अब अपने भविष्य की खोज के लिए इन 14 मंदिरों को जोड़ सकता हूं, नोटबुक में एक और एंट्री तैयार  हो गई 😂 भाईलोग अगर आपके पास इस विषय पर कोई जानकारी हो तो कृपा कर के कमेंट सेक्शन में कमेंट कर के जानकारी दें। 

 

जैसे ही हम मंदिर के परिसर में प्रवेश करते हैं, हम एक  बहुत सुंदर मंदिर देखते हैं, जिसके बाहरी हिस्से में नक्काशी की गई है और मंदिर के  ठीक पहले एक  प्राचीन दीप स्तंभ  हैं। 

 

प्राचीन दीप स्तंभ PC:नेहा मेहता

 

मंदिर के बाहरी हिस्से की नक्काशी

 


अपनी चप्पलों को उतारकर  हम मंदिर में दाखिल हुए, जैसे ही हम मुख्य हॉल में प्रवेश करते हैं, हमे सब से पहले  एक विशाल और प्रभावशाली नंदी की मूर्ति के दर्शन हुए। 

 

प्रवेश द्वार पर विशाल पवित्र बैल नंदी

 

मंदिर के अंदर का हिस्सा ,जहां नंदी की मूर्ति रखी गई है। PC: Neha Mehta

यह बाहरी कमरा काफी हवादार है और खंभों का चक्रव्यूह क्रॉस  वेंटिलेशन प्रदान करता है। नंदी के प्रति अपने सम्मान को अदा करते हुए, यहाँ से हमने अगले कमरे में प्रवेश किया, अब इस कमरे में कई खंभे हैं और प्रत्येक खंभे पर रामायण और महाभारत के दृश्यों का चित्रण करते हुए बहुत सारी नक्काशी की गई है। 

 

 

 

 

रामायण और महाभारत के दृश्यों के स्तंभों पर नक्काशी।

 

 

रामायण और महाभारत के दृश्यों के स्तंभों पर नक्काशी।

 

रामायण और महाभारत के दृश्यों के स्तंभों पर नक्काशी।

 

एक और उल्लेखनीय बात थी कि मंदिर में  दो रंगीन स्तंभ थे,जो  मंदिर की विशिष्टता को बढ़ाता है।

 

रंग-बिरंगे खंभे जगह को एक अनोखा रूप देते हैं

इस स्तंभ के ठीक पीछे इस मंदिर के मुख्य देवता हैं , हालांकि इसे बंद कर दिया गया था जब हम इस स्थान पर गए थे, पूछने पर पता चला कि  दोपहर में कुछ समय के लिए मंदिर बंद किया जाता हैं। मैंने कोशिश कर के दरवाजे की ग्रिल के अंदर हाथ डालकर फोटो ले लिया। 

 

मंदिर में मुख्य शिवलिंग

 


मंदिर में शिवलिंग के अलावा कई मूर्तियाँ भी थीं, जो दुर्भाग्य से मैं पहचान नहीं पाया । कृपया टिप्पणी करें  कमेंट में और मुझे बताएं कि क्या आप उन मूर्तियों को पहचान ने में सक्षम हैं। 

 

 

इस मंदिर के बारे में अपनी  शोध के दौरान मुझे एक और दिलचस्प बात पता चली कि किकाली गाँव के स्थानीय लोगों द्वारा इस मंदिर को फिर से बनाने के लिए बहुत सारे प्रयास किए गए थे, अलग अलग पड़े पत्थरो  को इक्कठा कर के फिर से जोड़ा गया था, अगर आप धयान से देखे तो आपको  पत्थर के ब्लॉक पर लिखे नंबर दिखाई देंगे । ऊपर पोस्ट की गई मुख्य शिवलिंग तस्वीर के पीछे की दीवार पर नंबरों को देख सकते हैं और मैं नीचे नंदी की तस्वीर पोस्ट कर रहा हूं, यहां भी आप पीछे की दीवार पर  पत्थरो पर  लिखे नंबर देख सकते है  ) मुझे लगता है कि उन्होंने चित्र आदि की मदद से पूरा मंदिर  बात निर्धारित की होगा।

 

क्या आप पीछे की दीवार पर पत्थरो पर लिखे नंबर देख सकते है ?

 

मंदिर से बाहर आकर अपनी बाईं ओर हमें  एक और अर्द्धनिर्मित मंदिर की संरचना देखते हैं, मुझे लगता है कि इसका पुनर्निर्माण किया गया है और इसे प्लिंथ स्तर तक ही बनाया गया है (मुझे लगता है कि उन्हें पहेली के सभी टुकड़े नहीं मिले होंगे इसी लिए गेम आधे में ही छोड़कर भाग लिए) 

 

 

 

और इस आधे अधूरे मंदिर के ठीक पहले दो पत्थर कि मूर्तियाँ हैं जिनमें से एक हाथी की है, दूसरी मैं समझ नहीं पाया कि कौनसे  जानवर की मूर्ती हैं। यदि आप लोग पहचान सकते हैं कि कौनसा जानवर है, तो कृपया टिप्पणी अनुभाग में टिप्पणी करें।

 

हाथी की पत्थर की मूर्ति
और यह मूर्ती मैं नहीं पहचान पाया … 

पूरे परिसर को एक उचित सीमा की दीवार द्वारा संरक्षित किया गया है, लेकिन वास्तव में यहां मेरी आंखों ने जो पकड़ा वह दीवार के साथ लगाए गए हेरोस्टोन्स की श्रृंखला थी।


अब आप यह जानना चाहेंगे कि ये हीरो-स्टोन या वीरगल्स क्या हैं! तो मेरे अगले ब्लॉग के लिए बने रहें…

ब्लॉग पढ़ने के लिए धन्यवाद और लाइक करें, कमेंट करें और अगर आपको मेरा ब्लॉग पसंद आया तो हमारी साइट से जुड़ें।

Spread the Travel Bug:
Total Page Visits: 1869 - Today Page Visits: 5

admin - Author

You Might Also Like

Comments ( 2 )

  • Darshan kaur

    पहली बार अपनी भाषा हिंदी में लिखने के लिए बधाई हो आशीष 🙂 ओर दूसरी बात तुम्हारी हिंदी जोरदार है आगे इसी तरह लिखोगे तो जो बारीकियां है वो भी समझ जाओगे।
    मन्दिर भव्य है लोकेशन भी बहुत सुंदर है । पेड़ो से सड़क की सुंदरता और भी बढ़ गई है। नए कलर वाले खम्बे बहुत क्लासिक लग रहे है आखिर में छोड़ा गया सस्पेंस जोरदार है ।
    इसीतरह लिखते रहो।

  • Darshan kaur

    पहली बार अपनी भाषा हिंदी में लिखने के लिए बधाई हो आशीष 🙂 ओर दूसरी बात तुम्हारी हिंदी जोरदार है आगे इसी तरह लिखोगे तो जो बारीकियां है वो भी समझ जाओगे।
    मन्दिर भव्य है लोकेशन भी बहुत सुंदर है । पेड़ो से सड़क की सुंदरता और भी बढ़ गई है। नए कलर वाले खम्बे बहुत क्लासिक लग रहे है आखिर में छोड़ा गया सस्पेंस जोरदार है ।
    इसीतरह लिखते रहो।

Enter Your Comments Here..