मेरे पिछले ब्लॉग में आपने पढ़ा कि कैसे हम मुंबई से कोल्हापुर पहुंचे और बाद में  हम कैसे बस से गगनगढ़ किले और गगनगिरी  महाराज आश्रम गए। । यदि आप पिछला ब्लॉग पढ़ने से चूक गए हैं, तो कृपया इस लिंक पर क्लिक करें।

गगनगढ़ किला देखने के बाद  हम वापस बस स्टैंड पहुंचे  और  वहां से हम कोल्हापुर के लिए स्थानीय बस में सवार हो गए । हमारी बस हमेशा की तरह सुन्दर  हरियाली और हस्ती खेलती  नदियों को पीछे छोड़ते हुए गीली सड़क पर तेज गति से  चली जा रही थी। बस के बाहर काफी तेज बारिश हो रही थी और बादल छाए रहने से मौसम बहुत ही सुहावना हो रहा था और हम इसका भरपूर आनंद ले रहे थे।

.

 

.

मैंने बस कंडक्टर से बात की और उससे कहा कि मैं महालक्ष्मी मंदिर जाना चाहता हूं, कृपया मुझे बताएं कि मुझे किस स्टॉप पर उतरना है। उसने  सुझाव दिया कि मुझे रंकाला बस स्टॉप पर उतरना चाहिए, जो कोल्हापुर बस स्टैंड से कुछ ही स्टॉप पहले है, और वहां से मंदिर केवल 5 मिनट की पैदल दूरी पर है।

शाम करीब साढ़े चार बजे हम रंकाला बस स्टॉप पहुंचे। बस कंडक्टर के कहने के अनुसार हमने मंदिर की ओर चलना शुरू कर दिया ,लेकिन रास्ते में एक चाय की दुकान देखकर मैं एक कप गर्म चाय का घूंट लेने से खुद को रोक नहीं पाया।

बारिश और चाय… हाय कितना  खूबसूरत कॉम्बिनेशन है !

.

एक कप गर्म चाय का घूंट

 

कुछ दूर चलने के बाद हम महालक्मी जी के मंदिर पहुँच गए।मंदिर में जाने से पहले मैं आपको मंदिर की कुछ जानकारी दे देता हु। 

महालक्ष्मी मंदिर /श्री अंबाबाई महालक्ष्मी मंदिर

श्री कोल्हापुर महालक्ष्मी मंदिर महाराष्ट्र के कोल्हापुर शहर में पंचगंगा  नदी के तट पर है।  इस खूबसूरत मंदिर की देवी अम्बाबाई या देवी महालक्ष्मी हैं। लोग कोल्हापुर की देवी महालक्ष्मी को अंबाबाई (अर्थात् मां) कहते हैं और इस मंदिर को श्री कोल्लूर अंबाबाई मंदिर के नाम से भी जाना जाता है ।  यह मंदिर वास्तुकला की दृष्टि से चालुक्यों  साम्राज्य का है और पहली बार 7 वीं शताब्दी में बनाया गया था। इस पवित्र स्थान का उल्लेख कई पुराणों और ग्रंथों में मिलता है।

.

श्री अंबाबाई महालक्ष्मी मंदिर

.

.

दंतकथा।

कोल्हापुर  पहले करवीरपुर के नाम से जाना जाता था । इसलिए देवी महालक्ष्मी को करवीरपुर भी  निवासिनी कहा जाता है। ऐसा कहा जाता है कि भगवान नारायण की पत्नी श्री, उनसे नाराज थीं क्योंकि उन्होंने ऋषि भृगु से कुछ नहीं कहा जब उन्होंने उन्हें लात मारी।उनका यह मानना था , कि यह न केवल श्री विष्णु का बल्कि उनका स्वयं महालक्ष्मी का भी अपमान है जो उनके भीतर रहती हैं। हालाँकि, श्री विष्णु ऋषि भृगु से नाराज नहीं हुए और  इस घटना  के बाद भी उनकी भक्तिपूर्वक सेवा की। ऋषि भृगु द्वारा अपमानित होने के बावजूद भी  श्री विष्णुजी की भक्ति को देखकर ऋषिजी प्रसन हुए  और उन्होंने श्री विष्णु को आशीर्वाद दिया, लेकिन महालक्ष्मी क्रोधित थी, और इस वजह से वह  वैकुंठ छोड़कर करवीरपुर आ गईं और वहां तब तक रहीं जब तक उन्होंने पद्मावती के रूप में अवतार नहीं लिया और भगवान वेंकटेश्वर से शादी कर ली ( जो भगवान विष्णु थे)। विष्णु जी ने भगवान वेंकटेश्वर का अवतार  लिया था क्योकि  वह   पद्मावती से शादी करके उसे वैकुंठ ले जा सके  । करवीरपुर वह पवित्र स्थान है जहाँ विष्णुपत्नि महालक्ष्मी ने एक बार ध्यान किया।

.

 

श्री अंबाबाई महालक्ष्मी मंदिर

.

.

एक दानव की कथा जिसे कोला कहा जाता है

महालक्ष्मी से जुड़ी एक और किंवदंती यह है कि उन्होंने एक बार कोला नामक एक राक्षस का वध किया था, जिसने  करवीरपुर के लोगों को आतंकित किया हुआ था  और मरने से पहले वह चाहता था कि इस  शहर का नाम उसके नाम पर रखा जाए और अपने लोगों की रक्षा के लिए महालक्ष्मी माँ इसी  शहर में बस गयी, महालक्ष्मी करवीरापुर या कोल्हापुर ( राक्षस कोला के कारण तथाकथित) में  रहने लगी । इस प्रकार, उमा देवी महालक्ष्मी जी  के रूप में हमेशा के लिए करवीरपुर में रहती हैं ।

.

 

.

 

लोकप्रिय किंवदंतियों के अनुसार, भगवान वेंकटेश ( महालक्ष्मी के पति) ऋषि भृगु के खिलाफ उनके भयानक कृत्य के लिए कोई कार्रवाई करने में असमर्थ थे। जब महालक्ष्मी ने इस बारे में सुना, तो उन्होंने आंध्र प्रदेश की प्रसिद्ध तिरुमाला पहाड़ियों को छोड़ दिया और कठोर तपस्या करने के लिए कोल्हापुर में बस गईं।

अंबाबाई ( महालक्ष्मी ) भगवान बालाजी की पत्नी हैं ( तिरुपति , आंध्रप्रदेश के वेंकटेश्वर )। शांतिपूर्ण और स्वस्थ जीवन के लिए देवी अंबा बाई ( महालक्ष्मी ) से प्रार्थना करने के लिए लोग कोल्हापुर जाते हैं। कोल्हापुर की देवी महालक्ष्मी के दर्शन किए बिना तिरुमाला के बालाजी के दर्शन को अधूरा माना जाता है।

.

 

 

.

मूर्ति कम से कम 5000 से 6000 वर्ष पुरानी मानी जाती है। एक पत्थर के चबूतरे पर स्थापित, देवी की मूर्ति का मुकुट  बहुमूल्य और अति सुन्दर रत्नों से सुसज्जित है जिसका  वजन लगभग 40 किलोग्राम है। काले पत्थर में उकेरी गई महालक्ष्मी की प्रतिमा की लम्बाई  2 फीट 8.5 इंच की है। . मंदिर की एक दीवार पर श्री यंत्र को बहुत ही ख़ूबसूरती के साथ  उकेरा गया है। मूर्ति के पीछे एक पत्थर का शेर ( देवी का वाहन ) खड़ा है। मुकुट में विष्णु जी के शेषनाग की एक छवि भी शामिल है  ..

.

.

.मूर्ति कुछ इस प्रकार  की महालक्ष्मी माँ अपनी चतुर्भुजाओं में  प्रतीकात्मक मूल्य की वस्तुओं को धारण किये हुए  हैं। निचले दाहिने हाथ में एक म्हातुलिंग (एक खट्टे फल) होता है, ऊपरी दाहिनी ओर के हस्त में गदा  होता है जिसे कौमोदकी कहा जाता है – जिसका सिर जमीन की ओर होता है, ऊपरी बाएँ हाथ में एक ढाल या खेतका होता है और निचले बाएँ हाथ में , एक कटोरा  जिसे पानपात्रा कहा जाता है । अधिकांश हिंदू पवित्र मूर्तियों के विपरीत, जिनका मुख उत्तर या पूर्व की ओर होता  है, श्री जी का  मुख पश्चिम की ओर है । पश्चिमी दीवार पर एक छोटी सी खुली खिड़की है, जिसके माध्यम से हर साल तीन दिन के लिए डूबते सूरज की रोशनी छवि के चेहरे पर पड़ती है।

.

 

श्री अंबाबाई महालक्ष्मी मंदिर

 

.

.

हमारा सफर जारी है…..

शाम के 5:10 बज रहे थे जब हम महालक्ष्मी मंदिर पहुंचे, यह हमारी खुश किस्मती थी की वहाँ ज्यादा भीड़ नहीं थी और हमें दर्शन करने में मुश्किल से 15-20 मिनट लगे । मंदिर से बाहर आने के बाद, मंदिर से जुड़े एक विशाल हॉल में, हमने बड़ी संख्या में महिलाओं को देखा, जो पूरी तरह से साड़ी और गहने पहने हुईं थीं  और उनके सामने एक प्लेट में थाली व  कुमकुम / सिंदूर था  ।मंदिर में पण्डित जी  महालक्ष्मी के 1000 नामों का जाप कर रहे थे और वे महिलाएं एक चुटकी सिंदूर लेकर  देवी महालक्ष्मी माता के एक-एक नाम का पाठ करते हुए थाली में श्री यंत्र रूपी महालक्ष्मी माँ को अर्पण कर रहीं थीं बड़े ही श्रद्धाभाव से । इन मंत्रों की ध्वनि मन को बहुत शांति व सुकून प्रदान कर रही थी।

.

.

.

.मेरी पत्नी, जो एक उत्साही भक्त है, इस पूरे समारोह में ( लेकिन हॉल के बाहर) बैठी रही और उसने नामों का पूरा नामजप सुना और देखा । इस बीच, मैंने इस अविश्वसनीय मंदिर की कुछ तस्वीरें खींचने का अवसर लिया, जिसमें बहुत सारी उत्कृष्ट नक्काशी है।

.

.

उत्कृष्ट नक्काशी

.

.

सूरज ढल रहा था, और हमें अभी  रंकाला झील पर भी जाना  था। इसलिए  मैं बार-बार अपनी पत्नी को वहाँ से जल्दी  निकलने के लिए कह  रहा था ,लेकिन वह वहाँ से बिलकुल भी हिलने को तैयार ही नहीं थी ,उसने मुझे स्पष्ट रूप से बोल दिया  कि यह उसका सौभाग्य है कि वह इस तरह के एक सुंदर समारोह की साक्षी है। तो कृपया इसके खत्म होने तक प्रतीक्षा करें।

अब गृह मंत्री ने बोल दिया , तो बोल दिया  !

.

 

मैं और मेरी होम मिनिस्टर

.

शाम के 6.40 बज रहे थे जब हम रंकला झील पहुँचे , सौभाग्य से हमारे लिए  दिन की रोशनी  बाकी थी जिसके चलते हम झील को देखने का आनंद ले सकते। हमने झील की एक छोटी सी सैर की,थोड़ी थोड़ी हवा में ठण्ड थी, झील का शांत पानी और उसके ऊपर का सुंदर आकाश, वास्तव में रंकाला झील को और अधिक मनमोहक बना रहा था।

.

.

रंकाला झील

 

.

.

हमने झील के किनारे पर थोड़ा समय बिताया और क्योंकि अब पूर्णतया अंधेरा हो चुका था इसलिए हमने अपने होटल वापस जाने का फैसला किया।

झील के ठीक बाहर एक बस स्टॉप था, जहाँ से हम सीबीएस बस स्टैंड के लिए बस लेकर अपने होटल पहुँचे।

हमारी दूसरा दिन की कहानी पढ़ने के लिए हमारे साथ बने रहें क्यों की वो अपने आप में बहुत ही रोमांचक साबित हुई , क्योंकि हमारी कई योजनाएँ विफल हो गईं और हमें कार्यक्रम पल पल में बदलना पड़ा।

Click here to read next part : Day 2 | कोपेश्वर मंदिर

 

.

.

 

महालक्ष्मी मंदिरों की आरती के बारे में जानकारी : (स्रोत: http://www.mahalaxmikolhapur.com/ )

महालक्ष्मी मंदिर सुबह 4.00 बजे खुलता है और पूरे दिन में अलग-अलग समय पर विभिन्न आरती ( प्रार्थना) की जाती है। मैंने इस प्रकार आयोजित सभी पूजाओं का विवरण नीचे सूचीबद्ध किया है।

5:30 पूर्वाह्न – काकड़  आरती

मंदिर के कपाट खुलने के बाद सुबह साढ़े पांच बजे माता के मुख धोने  और मक्खन और चीनी चढ़ाकर उनकी पूजा के साथ यह आरती शुरू होती है। ( पद्यपूजा और मुखमर्जन )

8:30 पूर्वाह्न – सुबह महापूजा सुबह

8:30 बजे घंटी बजाई जाती है और देवी पंचामृत अभिषेक , षोडशोपचार पूजा की जाती है और  खीर नैवेद्य के रूप अर्पित की जाती   है।

11:30 पूर्वाह्न – दोपहर महापूजा

पंचामृत अभिषेक , षोडशोपचार पूजा सुबह 11:30 बजे की जाती है। पूरनपोली महानैवेद्य में अर्पित की जाती है।

1.30 बजे अलंकार पूजा

अलंकार पूजा अर्पण करके की जाती है। देवी को महावस्त्र और देवी के शरीर पर पारंपरिक सोने के आभूषण पहने हुए।

8:00 बजे – धूपपर्ती

की घंटी रात 8 बजे बजाई जाती है और आरती रात 8:15 बजे शुरू होती है। लाडु करंजी को नवैद्य के रूप में पेश किया जाता है ।

10:15 बजे – शेजारती : रात 10:15 बजे

दूध और चीनी का भोग लगाया जाता है। रात 10:30 बजे मंदिर बंद हो जाता है

कैसे पहुंचें महालक्ष्मी मंदिर कोल्हापुरी

हवाई मार्ग से:

महालक्ष्मी मंदिर कोल्हापुर का निकटतम हवाई अड्डा पुणे हवाई अड्डा (AMD) है। महालक्ष्मी मंदिर कोल्हापुर पुणे हवाई अड्डे से 243 किमी दूर है । भारत के सभी मेट्रो शहरों से पुणे हवाई अड्डे के लिए नियमित उड़ानें हैं। भक्त मंदिर तक पहुंचने के लिए हवाई अड्डे के बाहर से परिवहन के किसी भी साधन को किराए पर या बुक कर सकते हैं।

रेल द्वारा :

महालक्ष्मी मंदिर कोल्हापुर का निकटतम रेलवे स्टेशन छत्रपति  शाहू महाराज टर्मिनस है। कोल्हापुर रेलवे स्टेशन से महालक्ष्मी मंदिर कोल्हापुर की दूरी 2.6 किलोमीटर है । भारत में कई रेलवे स्टेशनों से दैनिक नियमित ट्रेनें यहाँ के लिए हैं।

सड़क /बस द्वारा :

भक्त महालक्ष्मी मंदिर कोल्हापुर तक सड़क और कार द्वारा भी पहुंच सकते हैं। राज्य परिवहन निगम द्वारा सभी प्रमुख शहरों से कोल्हापुर के लिए नियमित बस सेवाएं हैं। कई निजी बस ऑपरेटर भी महाराष्ट्र के कई शहरों और कस्बों से कोल्हापुर के लिए चलते हैं।

.

.

Spread the Travel Bug:
Total Page Visits: 7920 - Today Page Visits: 1

admin - Author

Hi, I am Aashish Chawla- The Weekend Wanderer. Weekend Wandering is my passion, I love to connect to new places and meeting new people and through my blogs, I will introduce you to some of the lesser-explored places, which may be very near you yet undiscovered...come let's wander into the wilderness of nature. Other than traveling I love writing poems.

You Might Also Like

Aashish Chawla
Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial