यदि आपको याद हो तो मेरे पिछले ब्लॉग में हमने काकीनाडा बस स्टैंड से बस ली थी, और अपने पीछे पीथापुरम के खूबसूरत शहर की कुछ अद्भुत यादें छोड़ गए थे। (आप हमारी इस यात्रा के पहले भाग के बारे में पढ़ने के लिए लिंक पर क्लिक कर सकते हैं)

Part 1 श्री कुक्कुटेश्वर स्वामी मंदिर

Part 2  कुंती माधव स्वामी मंदिर

Part 3 श्रीपाद श्री वल्लभ मंदिर

मैं आपको शुरू में ही चेतावनी दे दूं कि यदि आप मंदिर के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो बेहतर होगा कि आप नीचे स्क्रॉल करें और यदि आप उन लोगों में से हैं जो समय बर्बाद करना पसंद करेंगे और हमारी यात्रा के क्षणों का आनंद लेंगे तो मेरे मेहमान बनें, तुरंत पढ़ना शुरू करें मेरे दोस्त…

तो, मेरे प्यारे दोस्तों, यहां से हमारा कार्यक्रम मल्लिकार्जुन मंदिर, श्रीशैलम जाने का है जिसके लिए हम काकीनाडा से गुंटूर के लिए बस पकड़ेंगे। क्योंकि इस  समय पर श्रीशैलम जाने के लिए कोई सीधी बस नहीं थी, इसलिए हमने काकीनाडा से गुंटूर तक की अपनी यात्रा को तोड कर करने का  का फैसला किया, हम अब काकीनाडा से गुंटूर , फिर गुंटूर से  हम मरकापुर के लिए ट्रेन लेंगे और मरकापुर से श्रीशैलम के लिए बस लेंगे। (ढाई घंटे का सफर)

काकीनाडा बस स्टेशन

 

रात करीब 9:30 बजे हमारी बस काकीनाडा बस स्टेशन पर आई, उस समय मैं एक कोल्ड ड्रिंक की दुकान के पास खड़ा था, इसलिए मैंने थम्स की एक बोतल उठाई और बस पकड़ने के लिए दौड़ा, ममता पहले से ही बस में बैठी थी इसलिए मैं खिड़की वाली सीट पर बैठने में सक्षम हो गया , इस बीच, प्रतीक भी कोल्ड ड्रिंक की अतिरिक्त बोतलें लेकर आ गया और अब हम यात्रा के लिए पूरी तरह तैयार थे। खिड़की की सीट पर बैठकर धीरे-धीरे कोल्ड ड्रिंक पीना, पीथापुरम में बिताए सभी अच्छे समय को याद करना मेरे लिए एक अविस्मरणीय क्षण था । हमारी बस ,यात्रियों को लेते हुए आराम  से चली जा रही थी, जैसे-जैसे हमारी बस काकीनाडा से दूर होती जा रही थी, सड़कें खाली होती जा रही थीं, बस में मेरे आस-पास के लोग ऊँघने लगे और इधर, मैं पूरी तरह से जाग रहा था, खिड़की पर बैठकर एक सुखद हवा का आनंद ले रहा था। , क्योंकि आधी रात के बाद से  बारिश हो रही थी और तापमान गिर गया था और बाहर की  बहुत ठंडी हो गई थी। मैं समय-समय पर अपने चेहरे पर बारिश की बूंदों को महसूस कर सकता था और जब यह सब हो रहा था, मैंने देखा कि हमारी बस का ड्राइवर कई काम एक साथ  करते हुए बस चला रहा था , वह न केवल गाड़ी चला रहा था बल्कि बस में आए नए यात्रियों को टिकट भी दे रहा था और इतना ही नहीं वह एक हाथ से स्टीयरिंग पर और दूसरे हाथ से नोटों को पकड़कर पैसे भी गिन रहा था। अब, बस में रात की यात्रा के दौरान यह गतिविधि मेरे सामने चल रही थी  जिसके चलते  मै बस यात्रा के दौरान पूरी रात जागता रहा , बस रह रह कर एक ही विचार आ रहा था  … भाई ये ड्राइवर कहीं बस को ठोक ना दे, मेरा आधा टेंशन उधर ही था , नींद क्या खाक आती…

जब मैं खिड़की से बाहर देख रहा था, कुछ समय के बाद मुझे अचानक ऊंची ऊँची  इमारतें दिखाई देने लगी , इससे मुझे हमारी आमची मुंबई की याद आ गई। मैंने बस की खिड़की से अपनी गर्दन बाहर निकाली  यह देखने के लिए  की हम लोग कहाँ पहुँचे हैं, लेकिन अँधेरा काफी होने के कारन कुछ पता नहीं चल सका । मैंने  फिर अपने फ़ोन पर नक्शों को  देखना शुरू किया, तो पता चला की यह विजयवाड़ा हैं । मेरी यह अजीब आदत है की मै  नक़्शे पर अपने बस का रूट सफर में बीच बीच में देखता रहता हु, इससे मुझे रास्ते में आनेवाले  स्थानों या चीज़ों को समझने को मिलता है। इसलिए जैसे ही हमारी बस विजयवाड़ा से गुजरी, मैं कृष्णा नदी का दृश्य देखने के लिए तैयार था और मुझे आश्चर्य हुआ, कृष्णा नदी पर बना पुल वास्तव में लंबा था, इतना लंबा कि मुझे अपनी पत्नी को नींद से जगाकर  नीचे बहती नदी का  मनमोहक दृश्य दिखने का समय मिल गया ।

धीरे-धीरे हमारी बस छोटे बड़े शहरों से होकर गुजरती जा रही थी और लगभग 3:15 बजे हम गुंटूर बस स्टैंड पहुंचे।

 

गुंटूर रेलवे स्टेशन

 

हमने गुंटूर रेलवे स्टेशन के लिए एक ऑटो रिक्शा लिया। स्टेशन पर उतरने के बाद भी हमें हल्की बूंदाबांदी महसूस हो रही थी जो अभी भी जारी थी। सुबह प्रात  के ३.३० am के  समय  पर भी  गुंटूर रेलवे स्टेशन पर काफी चहल पहल नज़र आ रही थी हमारी कनेक्टिंग ट्रेन सुबह 6:00 बजे थी इसलिए हमारे पास वेटिंग रूम में तरोताजा होने के लिए पर्याप्त समय था। दोस्तों, आप लोग कृपया समझलो  कि हम लोग बजट ट्रैवलर हैं ,इसलिए हमारे पास इस बारे में कोई उलझन नहीं है कि हम कहां रहेंगे और क्या खाएंगे… जो मिल जाए सब चलता है, जिंदगी में ज्यादा नखरा नहीं होने को मांगता।

प्रतीक के बारे में  मैंने ध्यान दिया , भाई  पलक झपकने का कोई मौका नहीं छोड़ता 😃, दरअसल पूरी यात्रा के दौरान यह भाईसाहब  गहरी नींद में थे , काश मेरे पास भी जरूरत पड़ने पर अपनी नींद निकलने की यह प्रतिभा होती। ( मै तो रात भर उल्लू की तरह ड्राइवर की गतिविधियों को देखता रह गया) बात जब प्रतिक भाई और नींद की कर ही रहे है तो यहाँ का भी किस्सा सुनो , यहाँ  वेटिंग रूम में, प्रतीक भाई चुपचाप कोने में सोफे के पास गए और खुद को सिकोड़ लिया क्योंकि एक आदमी पहले से ही सोफे पर लेटा हुआ था, प्रतीक ने उसे आगे बढ़ने के लिए कहा और आराम से खुद को उस छोटी सी सोफे पर उपलब्ध जगह में समायोजित कर लिया। सोफ़ा को 50-50 शेयर कर लिया…मुंबई लोकल स्टाइल में और सो गए! हां ये भाई तो 15 मिनट भी मिले तो मौके पर चौका मार देता है। इस बीच, ममता भी थोड़ी देर के लिए एक दूसरे सोफे पर आराम करने लग गयी , जहां तक ​​मेरा सवाल है, मैं एक बेचैन आत्मा हूं, मेरी सबसे बड़ी कमजोरी  यह है कि जब मैं यात्रा कर रहा होता हूं तो इस तरह से आराम नहीं कर पाता।

करीब करीब ५.४५  am  हम सभी तैयार हो गए, जितना संभव हो सके अपने फोन चार्ज किए, और मार्कपुर के लिए टिकट खरीदने के लिए टिकट काउंटर पर जाने का फैसला किया।

मैं और ममता अपना बैग कंधे पर लटकाए वेटिंग रूम से बाहर निकलकर टिकट काउंटर की ओर बढ़ने लगे, जबकि प्रतीक लगभग काउंटर पर पहुंच चुका था। इसी समय मेरी नज़र ट्रेन इंडिकेटर की ओर पड़ी और मुझे आश्चर्य हुआ कि जिस यात्री ट्रेन में हमें मलकापुर जाने के लिए चढ़ना था वह रद्द कर दी गई थी। एक पल के लिए निराश होने के बजाय मुझे राहत मिली कि अब मुझे पैसेंजर ट्रेन और सिकंदराबाद एक्सप्रेस के बीच फैसला नहीं करना पड़ेगा। (चुनाव नियति द्वारा किया गया था)

लेकिन यहां आया कहानी में एक ट्विस्ट, जिसने हमारा दिमाग ट्विस्टर की तरह पूरा का पूरा घुमा डाला😃

मैंने टिकट काउंटर पर प्रतीक को असहाय दृष्टि से देखा और वह बोल पड़ा, “भाई अपनी सिकंदराबाद एक्सप्रेस कैंसिल हो गई” ओह तेरी ! दोहरा झटका!  मैं हतप्रभ था और केवल इतना ही कह सका, क्या बोलता है, फिर से! (हे भगवान! दोबारा नहीं)

अब आप जरा हमारी दुर्दशा की कल्पना करें, यहां हम एक पूरी तरह से अज्ञात शहर में हैं, ऊपर से बहुत कट टू  कट  कार्यक्रम में चल रहे हैं, पगलाते हुए दिमाग से सोचने के लिए संघर्ष कर रहे हैं और हमारे सर पर टंगा था एक बड़ा सवाल।

 

अब क्या करे! 

 

हम तुम एक सहर में अटके हो और गाड़ी खो जाय …

मुझे लगता है कि इस यात्रा की योजना बनाने से पहले मेरे और प्रतीक द्वारा किया गया सारा होमवर्क काम आया, हमने तुरंत फैसला किया कि हमें तुरंत गुंटूर बस स्टैंड के लिए निकल जाना चाहिए और देखना चाहिए कि सुबह 6:30 बजे की बस वहां है या नहीं। अब हर कहानी में एक फ्लैशबैक होता है, खैर यहां भी कुछ बताने लायक है। अपनी मूल योजना में, मैंने सुझाव दिया था कि हम ट्रेन से गुंटूर पहुँचें और श्रीशैलम के लिए सुबह 6:30 बजे की बस लें। (दुर्भाग्य से, हमारी ट्रेन रद्द हो गई और हमें गुंटूर जाने के लिए बस लेने के लिए मजबूर होना पड़ा।) प्रतीक भाई की राय थी कि हमें मार्कपुर तक ट्रेन लेनी चाहिए और वहां से श्रीशैलम के लिए बस लेनी चाहिए और श्रीशैलम जाते समय सुंदर दृश्य का आनंद लेना चाहिए। , चूँकि इसमें लगभग उतना ही समय लगने वाला था, मैं इस योजना से भी बिल्कुल सहमत था। हालाँकि, जैसा कि वे कहते हैं, वही होता है जो मंजूरे खुदा होता  है , अब क्यों की  हमारी ट्रेन रद्द हो गई, तो  हम फिर से यहां अपनी मूल योजना के साथ सफर पर निकल पड़े 😃, हमने जल्दी से एक ऑटो बुलाया जो हमें गुंटूर बस स्टैंड ले गया, वातावरण में  ठंडी बारिश का माहौल था।इस वक़्त  मैं यहां इस ब्लॉग को जब लिखने के लिए बैठा  हूं तो मुझे  वो थोड़ी थोड़ी सर्द हवा और पूरी गति से भागता हुआ हमारा ऑटो  यही मुझे सबसे ज्यादा याद आ रहा है।

गुंटूर बस स्टैंड पर पहुंचते ही हम अपने ऑटो से निकल कर बस स्टैंड की ओर फटाफट भागे , बेचारी ममता लगभग लड़खड़ा रही थी, हमने पूछताछ काउंटर की तलाश की, लेकिन हमें काउंटर के पीछे कोई नहीं मिला, एक बस कंडक्टर ने हमें  प्लेटफार्म नंबर बताया जहां से श्रीसैलम की बस जाती थी,  तो हम वहाँ दौड़कर पहुँचने की कोशिश में लग गये  आख़िरकार, हम इस बस को मिस नहीं करना चाहते थे…एक दिन…अरे अरे  दिन नहीं एक रात के लिए इतने ट्विस्ट, या मुझे कहना चाहिए झटके काफी थे….

हमारी सारी हड़बड़ी, हड़बड़ाहट, और तेज़ भागम भाग तब धराशायी हो गई जब हमें बताया गया कि सुबह 6.30 बजे की बस अभी-अभी निकल चुकी है !

 

 

दर्शन करने की लाइन में लगने को यात्री तैयार

.

लो करलो बात ! निराशा फिर हाथ लगी। .. हम ने दिल छोटा नहीं किया और अगली बस का पता लगाने में लग गए , इसलिए हमने सुबह 7.30 बजे वाली अगली बस पकड़ने का फैसला किया… है राम  यह क्या, अरे नहीं यार ऐसा मत करो…. दिल रो रो कर बोल रहा था , क्यों कि एक और बम गिरा हम पर  जब पता चला  7:30 की बस पूरी तरह से बुक थी, हे भगवान  यह क्या चल रहा है, क्या मुझ नास्तिक  की ऐसे ही ठोक  बजा के परीक्षा लोगे , अरे ऊपर वाले मेरे साथ दो दो तेरे भक्त भी चल रहे है, उनकी तो कुछ सोचो जी , कोई ना , हम भी हमारी कहानी के हीरो है 😃, हिम्मत नहीं हारेंगे, हम भी एक सच्चे योद्धा हैं , भले ही हम नीचे  गिर जाएं, पर हम फिर उठ कर  युद्ध लड़ते जाएंगे। हमने एएसआरटीसी वेबसाइट की जांच करने के लिए अपने फोन पर लॉग इन किया और तुरंत ऑनलाइन टिकट बुक कर लिया, एकमात्र समस्या यह थी कि श्रीशैलम जाने के लिए अगली बस सुबह 8:30 बजे थी। अब समय काटने  के लिए और ऊपर से हमें भूख भी लग रही थी । हम पास के होटल में  नाश्ता   करने चले   और नाश्ता  करते ही दिल एक दम खुश हो गया , क्यों कि   हमने अपनी यात्रा का सबसे अच्छा  नाश्ता  आज ही किया था , मस्त गरमा गरम मेदु वड़ा  और उस पर उबलती हुई धुँआधार  सांबर, बॉस अभी यह लिखते लिखते ही  मेरे मुँह  में पानी आने लग गया। …लगता है ब्लॉग लिखकर पास के उडुपी रेस्टुरेंट में जाकर वड़ा  सांबर खाना पड़ेगा।  अपना नाश्ता खत्म करने के बाद हम सुबह 8:30 बजे की बस पकड़ने के लिए बस स्टैंड की ओर निकल पड़े । एक बार जब हम बस स्टैंड पर अपने प्लेटफार्म पर पहुंचे तो हमने देखा कि वहां बहुत भीड़ थी। आप मुझ पर विश्वास नहीं करेंगे, अगर मैं आपको बताऊं कि जैसे ही बस आई, लगभग सभी लोग, हाँ लगभग सभी लोग अंदर जाने के लिए भूखे कुत्ते की तरह झपट पड़े, हम सबसे आक्रामक थे 🤣आखिरकार हमारा संघर्ष सबसे अधिक कठिन था।  चूँकि हमारी सीटें आरक्षित थीं, हमें  आसानी से बस  में सीट मिल गयी।  (अब मुझे आश्चर्य हो रहा है कि अगर सीटें आरक्षित थीं तो हम भी बस में चढ़ने के लिए धक्का क्यों दे रहे थे…या यहाँ भी  अपना मुंबई स्टाइल ट्रेन में धक्का मुक्की  मारकर चढ़ने की आदत  है)।

बस का सफर शुरु

 

लगभग एक घंटे की ड्राइव के बाद, हमारी  बस एक स्थानीय भोजनालय पर रुकी, वह आदमी कुछ अद्भुत डोसा बना रहा था, काश मैं खा पाता, लेकिन हमने सुबह जो शानदार नाश्ता किया, उससे यह सुनिश्चित हो गया कि मैंने ऐसा नहीं किया। यहां डोसा खाने के  बजाय हमने ठंडी – ठंडी लस्सी का आनंद लिया। (आख़िरकार  पंजाबी जो हूँ , साउथ में भी लस्सी चेप ली  🤣,

साउथ में भी लस्सी चेप ली !

जैसे ही हम वन क्षेत्र में दाखिल हुए तो नज़ारा काफी खूबसूरत लग रहा था। शुक्र है कि छह घंटे की यह यात्रा अप्रत्याशित थी! और जब हम श्रीशैलम पहुंचे तो लगभग 2.20 बजे थे।

.

 

श्रीशैलम पहुंचे तो लगभग 2.20 बजे थे

 

श्रीसैलम के मल्लिकार्जुन ज्योतिलिंग मंदिर  के बाहर   भारी भीड़ थी और लंबी कतारें थीं लेकिन हम लोग कहां डरने वाले हैं इतनी परेशानियों का सामना करके  जो आए थे , तो ये लंबी लाइन क्या चीज है? हमने अपना सामान क्लॉकरूम में जमा किया और अपने फ़ोन भी जमा करा दिए  ( मंदिर में फ़ोन लेकर जाने की अनुमति नहीं है), दोस्तों इसीलिए आपको मंदिर के अंदर  की फोटोज नहीं दिखा पाऊँगा । हम यह सब होने के बाद टिकट काउंटर पर चले गए जहां हमें बताया गया कि हमें दर्शन टिकट पाने के लिए शाम 4:30 बजे तक इंतजार करना होगा। मैं आपको अपने ब्लॉग के अंत में टिकट और मंदिर के बारे में अन्य चीजों का विवरण दूंगा फ़िलहाल के लिए आप हमारी कहानी के मज़े लो । हम स्पर्शदर्शन के लिए टिकट लेना चाहते थे लेकिन इस दर्शन के लिए टिकट उपलब्ध नहीं थे, इसलिए मजबूरन हमें 300 रुपए का टिकट लेना पड़ा।

 

दर्शन करने की लाइन में लगने को यात्री त्यार

.

आप सोच रहे होंगे कि जब मैं मंदिर जाता हूं तो यह टिकट प्रणाली कैसे होती है, वैसे दक्षिण में, अधिकांश मंदिरों में यह टिकट प्रणाली होती है, यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप कितनी जल्दी   दर्शन करना चाहते हैं। टिकट खरीदने के लिए कतार में इंतजार 20 मिनट तक चला और 4:30 बजे मंदिर के अधिकारियों ने लोगों को अंदर लेना शुरू कर दिया, लेकिन यहां हमें जल्द ही एहसास हुआ कि हमें तुरंत दर्शन नहीं मिलने वाले थे क्योंकि हमें हॉल एक हॉल में बैठा दिया जहाँ हमे  बैठकर इंतजार करना पड़ा। मुझे लगता है कि हम उस हॉल में आधे  एक घंटे से अधिक समय तक इंतजार कर रहे थे। आख़िरकार हम मल्लिकार्जुन ज्योतिलिंग के दर्शन करने में सफल रहे। हालाँकि, हमारे सभी संघर्षों में सबसे अच्छी बात यह थी कि हमें बहुत ही  अच्छे दर्शन हो गए।

मैं मेरा  सारा  संघर्ष , सारा पसीना, सारा इंतजार और सारा दर्द जल्दी ही भूल   गया और मन  वास्तव में खुश हो गया और खुद को  धन्य महसूस करते हुए मंदिर से बाहर आए।

अब जब आपने मेरी राम कहानी बर्दाश्त कर ही ली है तो  चलो मैं मैं आपको इस मंदिर के बारे में संक्षेप में बताता हूँ।

pic from internet

.

मल्लिकार्जुन ज्योतिलिंग मंदिर:

श्रीशैलम बारह ज्योतिर्लिंगों में से दूसरा है। इष्टदेव भगवान मल्लिकार्जुन स्वामी हैं। श्रीशैलम भारत का एकमात्र स्थान है जहां एक ही परिसर में ज्योतिर्लिंग और शक्ति पीठ का संयोजन है। मल्लिकार्जुन स्वामी के दर्शन के बाद, आपको उसी परिसर में मुख्य मंदिर के ठीक पीछे भ्रामराम्बा शक्ति पीठ के दर्शन से गुजरना होता है, और उसके बाद ही आप मंदिर से बाहर निकलते हैं ।रास्ता कुछ  ऐसा ही  बना है ही की आप शक्तिपीठ के दर्शन किये बिना  मंदिर के बाहर नहीं जा सकते।

 

दर्शन के प्रकार:

मंदिर में जाने के लिए विभिन्न प्रकार के दर्शन उपलब्ध हैं। भक्त मुफ्त में दर्शन कर सकते हैं, लेकिन मेरा विश्वास करें, यह बहुत भीड़भाड़ वाली और समय लेने वाली प्रक्रिया होगी और आप  मल्लिकार्जुन स्वामी के लिंग रूप को शायद ही देख पाएंगे। लेकिन विभिन्न मूल्य दरों के आधार पर अन्य प्रकार के दर्शन भी होते हैं जैसे की

100 रुपये में सीघ्रदर्शन,

300 रुपये में अति सीघ्रदर्शन,

500 रुपये में अलंकार दर्शन- , (केवल शनिवार, रविवार और सोमवार को) (एकल व्यक्ति)

500 रुपये में  स्पर्श दर्शन (एकल व्यक्ति)

जितना अधिक पैसा, उतनी अधिक दृश्यता और जल्दी दर्शन।

 

Picture from Internet

Traveller Tips:

  1. देवस्थान वेबसाइट के माध्यम से अपना आवास ऑनलाइन बुक करें अन्यथा आपके लिए कठिन समय हो सकता है। (चूंकि यह मंदिर वन अभ्यारण्य क्षेत्र में है, अधिकांश होटल/लॉज प्राधिकरण के हैं)

https://www.srisailadevasthanam.org/

  1. दर्शन के लिए आप इन्हें ऑनलाइन भी बुक कर सकते हैं (बेहतर होगा कि स्पर्श दर्शन के लिए आप एडवांस बुकिंग करा लें)
  2. अलंकार और स्पर्श दर्शन के लिए एक ड्रेस कोड है. (धोती और ऊपर गमछा)

 

Picture from Internet

.

श्रीशैलम में मंदिर के पास पर्यटक स्थल

  1. पथला गंगा – 2 किमी
  2. श्रीशैलम टाइगर रिजर्व – 20 किमी
  3. अक्कमहादेवी गुफाएँ – 10 किमी
  4. चेंचू लक्ष्मी जनजातीय संग्रहालय – 1 किमी
  5. ऑक्टोपस व्यू पॉइंट – 27 किमी

 

पहुँचने के लिए कैसे करें:

नोट: श्रीशैलम नल्लामाला जंगल से घिरा हुआ है। इसलिए, तीर्थयात्रियों की सुरक्षा के लिए, वन विभाग आंध्र प्रदेश से यात्रा करने वाले लोगों के लिए दोर्नाला और सिखराम में और तेलंगाना से यात्रा करने वाले लोगों के लिए मन्नानूर और डोमलापेंटा की एंट्री पॉइंट की सुरक्षा करता है। प्रतिदिन रात्रि 09:00 बजे से प्रातः 06:00 बजे तक गेट बंद रहते हैं।

इसलिए, भक्तों से अनुरोध है कि वे निर्धारित अवधि के भीतर अपनी यात्रा की योजना बनाएं।

सड़क मार्ग: श्रीशैलम में दुनिया भर से श्रद्धालु आते हैं, लेकिन ज्यादातर श्रद्धालु आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और तेलंगाना से आते हैं। आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और कर्नाटक की सरकारों ने भक्तों के लिए सरकारी बसों के माध्यम से सड़क परिवहन सुविधाओं की सुविधा प्रदान की है। हालाँकि सरकार ने श्रीशैलम के लिए उत्तम सड़कें बनाई हैं, लेकिन जो लोग अपने निजी वाहनों में यात्रा करते हैं, उन्हें श्रीशैलम की घाट सड़कों पर सावधानी बरतने की ज़रूरत है। श्रीशैलम कुरनूल से 180 किमी, हैदराबाद से 220 किमी, बैंगलोर से 530 किमी और विजयवाड़ा से 272 किमी की दूरी पर है।

ट्रेन: श्रीशैलम से जुड़ने वाला निकटतम रेलवे स्टेशन मार्कपुर है। मार्कपुर दक्षिण-मध्य रेलवे की गुंटूर-हुबली लाइन के बीच में है। लोग मार्कपुर से बस ले सकते हैं, जो श्रीशैलम से 91 किमी दूर है।

 

अगला भाग पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

 

 

 

 

 

Spread the Travel Bug:
Total Page Visits: 1164 - Today Page Visits: 6

admin - Author

Hi, I am Aashish Chawla- The Weekend Wanderer. Weekend Wandering is my passion, I love to connect to new places and meeting new people and through my blogs, I will introduce you to some of the lesser-explored places, which may be very near you yet undiscovered...come let's wander into the wilderness of nature. Other than traveling I love writing poems.

You Might Also Like

Aashish Chawla
Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial